VDIO: जया के जाने से विभाग में होगी कमी महसूस ,विस्फोटक शांत.... जानिए क्या है किस्सा




भूपेंद्र साहू 
धमतरी कई बार किस्सों में यह सुनते है कि इंसान से ज्यादा वफादार  कुत्ता होता है और यह सच भी होता है इंसानों को जिस तरह जानवरों से लगाव होता है, उसी तरह जानवर भी इंसानों से बहुत प्यार करते है। एक ऐसा ही किस्सा पुलिस विभाग में देखने को मिला है है, धमतरी  पुलिस विभाग की होनहार डॉग जया की आज मौत हो गई। उसकी मौत कैसे हुई यह तो स्पष्ट नहीं हुआ है लेकिन उसके जाने का गम विभाग को जरूर है ।


 बताया गया कि जया साल 2015 में जिले में पदस्थ हुई थी। जिसे विस्फोटक जया भी कहा जाता था। नक्सल मोर्चे पर भी पुलिस की सुरक्षा करती आ रही थी। साल 2018-19 में उसने सिहावा क्षेत्र के ग्राम कारीपानी में पुलिस जवानों को बचाया था, जब नक्सलियों ने उनके रास्ते में बम बिछा दिया था। इसके अलावा भी उसने कई बार पुलिस की मदद की थी। जया प्रारंभ से होनहार रही, जिसने कई बार अपने होनहार होने का प्रशस्ति पत्र भी जीता था। आज उसकी मौत की खबर के बाद पुलिस विभाग भी स्तब्ध है। 
 
 बताया कि उसकी देखभाल आरक्षक सुदेस प्रसाद काफी समय से करता आ रहा था, जिसे जया भी बहुत पसंद करती थी। मगर पिछले कुछ समय से वह भिलाई में एक कोर्स के सिलसिले में गया हुआ है। जिसके जाने के बाद जया गुमसुम सी रहती थी। बहरहाल आज उसको पुलिस लाइन में ही दफन किया गया है। इस दौरान एएसपी मनीषा ठाकुर, डीएसपी सारिका वैध, आरआई के राजू सूबेदार, रेवती वर्मा, रुद्री टीआई व स्टाफ मौजूद थे। 

एएसपी मनीषा ठाकुरने बताया कि जया का जन्म 7 अप्रेल 2014  को हुआ था । उसका मूल  इकाई 7 वीं  बटालियन CAF भिलाई था ।जया नेNSG कोर्स मानेसर गुड़गांव से किया । वह सभी हैंडलर के आज्ञा का पालन करती थी । उसका हैंडलर सुदेश प्रसाद और सहायक रुपेश देहारी था । जया विस्फोटक को मानेसर और भिलाई में का क्रिया क्रलाप उत्तम श्रेणी पाए जाने पर सम्मानित भी किया जा चूका है । 
 

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने