राज्यो के कानून पर अतिक्रमण कर उनके अधिकारों को कमजोर कर रही केंद्र सरकार:डॉ ध्रुव



केन्द्र सरकार के किसान बिल के खिलाफ कांग्रेसियों का धरना प्रदर्शन


मगरलोड (धमतरी )।। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस एवं छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के निर्देशानुसार ब्लॉक कांग्रेस कमेटी ने मगरलोड बाजार चौक में कृषि बिल के विरोध में  एक दिवसीय धरना प्रदर्शन किया । उपाध्यक्ष मध्य क्षेत्र आदिवासी विकास प्राधिकरण सिहावा विधायक डॉ. लक्ष्मी ध्रुव ने  राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के 151 जयंती एवं पूर्व प्रधानमंत्री स्व लालबहादुर शास्त्री जी की 116 जयंती के अवसर पर केन्द्र की भाजपा सरकार  द्वारा पारित तीन किसान विरोधी बिल किसान उत्पादन व्यपार और वाणिज्य(संवर्धन और सुविधा) विधेयक 2020,किसान (सशक्तिकरण और संरक्षण) मूल्य आश्वासन कृषि सेवा विधेयक 2020,आवश्यक वस्तु (संशोधन)विधेयक 2020 के विरोध में किसान मजदूर बचाओ दिवस मनाया गया।

इस दौरान सिहावा विधायक डॉ लक्ष्मी ध्रुव ने सवर्प्रथम राष्ट्रपिता महात्मा गांधी एवं पूर्व प्रधानमंत्री स्व लालबहादुर शास्त्री की जयंती पर उन्हें नमन करते हुये  कहा कि जिस प्रकार बापू ने हमे सत्य अहिंसा एवं प्रेम का पाठ पढ़ाया और पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न  लालबहादुर शास्त्री ने जय जवान जय किसान का नारा देकर भारत वर्ष में शांति एवं समृद्धि फैलाई है हम सभी कांग्रेसजनों को इन सभी अनुकरण कर बेहतर भारत के निर्माण में योगदान देना है।

छत्तीसगढ़ शासन ने आज इन महान स्वतंत्रता संग्रामियों के जन्मदिन के अवसर पर केन्द्र सरकार के किसान विरोधी कानून के विरोध में किसान मजदूर बचाओ दिवस मनाने का संकल्प लिया है।

उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ के किसानों को सोचना होगा की किस प्रकार केन्द्र की मोदी सरकार द्वारा अध्यादेश लागू कर किसानों के लिए तीन काले कानून पारित किया गया है कोरोना काल मे यह कानून बनाना समझ से परे है।
जब भी कोई किसान कानून बनाया जाता है तब संसद में गहन चर्चा एवं किसान संगठनो से बातचीत कर बनाया जाता है लेकिन  सभी पार्टियों एवम किसान संगठनों को  अंधेरे में रखकर  यह कानून पारित किया गया है जो कि संदेह पैदा करता है।चोर दरवाजे से इस कानून को पारित कर इस कानून में बहुत ही जटिल शब्दों का प्रयोग कर किसानों को भ्रमित किया जा रहा है।
केन्द्र सरकार द्वारा राज्यो के कानून पर अतिक्रमण कर उनके अधिकारों को कमजोर किया जा रहा है।
इस किसान विरोधी बिल मे कही पर न्यूनतम समर्थन मूल्य का उल्लेख नही किया गया है अगर केंद्र की भाजपा सरकार एक राष्ट्र एक बाजार की बात करती है तो एक राष्ट्र एक बाजार एक दर की बात क्यों नही कर पाती।
छत्तीसगढ़ में 5 एकड़ से कम जमीन वाले किसानों की संख्या 85% है इस स्थिति मे कृषि बाजार का नियंत्रण बड़े उद्योगपतियों के हाथ होगा एवं छोटे किसान उनसे मोल भाव की स्थिति में नही होंगे ।
केन्द्र लगातार कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग की बात कर रही हैं इससे किसान अपने ही खेतो मे बंधुवा मजदूर बन कर रह जायंगे इस काले कानून से किसान के साथ साथ उपभोक्ता भी प्रभावित होगा।
मोदी की खराब नीतियों के चलते भारत की जीडीपी मे लगातार  गिरावट आई है मोदी सरकार को न तो किसानों से ,मजदूरो से और न ही बेरोजगारो से मतलब है उन्हें तो सिर्फ अपने उद्योगपति मित्रो से मतलब है ।
मैं सिहावा विधानसभा क्षेत्र की विधायक होने के नाते इस बिल का पुरजोर विरोध करती हूं एवं सभी किसान साथियों से वादा करती हूं कि छत्तीसगढ़ की भुपेश सरकार किसानों के हित मे लगातार करती रहेगी एवं हर हाल मे किसानों को उनके फसलों का सही दाम दिलाकर रहेगी।हाथरस वाली घटना पर डॉ लक्ष्मी ध्रुव ने घोर निंदा की है ।

कार्यक्रम के अंत मे
कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने इस किसान विरोधी बिल के खिलाफ  राष्ट्रपति के नाम तहसीलदार हेमलता डहरिया को ज्ञापन सौंपा।
इस कार्यक्रम में धरना प्रभारी भरत नाहर , पीसीसी सदस्य लखन लाल ध्रुव ,ब्लाक कांग्रेस अध्यक्ष राजेश साहू , कांति कंवर जिला पंचायत सदस्य धमतरी, कुसुमलता साहू सदस्य  जिला पंचायत , नीतू साहू अध्यक्ष  नगर पंचायत मगरलोड , भूपेश सिन्हा उपाध्यक्ष नगर पंचायत ,डॉ गिरीश साहू जनपद निर्माण सभापति , रवि निर्वाण , सुरेंद्र धनंजय विधायक प्रतिनिधि ,दुर्गेश नन्दनी साहू जनपद सदस्य, हेमंत देवागन, शोहिल साहू, डाकवर साहू , डीहू राम साहू , नारद साहू ,बालगोविंद साहू, दिलीप सोनी अध्यक्ष युवा कांग्रेस शहर, सोमनाथ सिन्हा ,जगमोहन साहू , खिलेश्वरी साहू अध्यक्ष  महिला ब्लाक कांग्रेस ,जगजीत कौर , हिरवारी ठाकुर पार्षद ,रूखमणी सिन्हा छाया पार्षद , गजेंद्र दीवान उपसरपंच खड़मा, अर्जुन निषाद , डॉ पुरूषोत्तम सिन्हा , फूलजी सिन्हा , बिसहत राम साहू ,सुखदेव साहू  व समस्त कांग्रेसी कार्यकर्ता उपस्थित थे।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने