मन की बात: प्रधानमंत्री की अपील- त्योहार पर मर्यादा में रहें, सैनिकों के लिए एक दीया जलाएं

 


  • नई दिल्ली,
  • 25 अक्टूबर 2020  

अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम मन की बात में पीएम मोदी ने देशवासियों को एक बार फिर से दशहरे की बधाई दी है. पीएम मोदी ने कहा है कि दशहरा संकटों पर जीत का भी पर्व है. पीएम ने कहा कि दशहरा असत्य पर सत्य की जीत का पर्व तो है ही, साथ ही ये त्योहार संकटों पर जीत का भी उत्सव है. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर कहा कि अभी त्योहार का मौसम आने वाला है. इस दौरान लोग खरीदारी करेंगे, आप खरीदारी के दौरान वोकल फॉर का संदेश जरूर याद रखें और स्थानीय और स्वदेशी सामानों को खरीदें. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के सैनिकों को विजयादशमी का शुभकामनाएं देते हुए कहा कि इस बार दिवाली में एक दीया सीमा पर तैनात सैनिक के नाम जलाएं. पीएम मोदी ने लोगों से एक बार फिर अपील की कि वे त्योहारों के दौरान सामाजिक दूरी का पालन करें.पीएम मोदी ने कहा, "हमें अपने उन जांबाज सैनिकों को भी याद रखना है, जो, इन त्योहारों में भी सीमाओं पर डटे हैं, भारत माता की सेवा और सुरक्षा कर रहे हैं. हमें उनको याद करके ही अपने त्योहार मनाने है, हमें घर में एक दीया, भारत माता के इन वीर बेटे-बेटियों के सम्मान में भी जलाना है. मैं अपने वीर जवानों से भी कहना चाहता हूं कि आपर भले ही सीमा पर हैं, लेकिन पूरा देश आपके साथ है, आपके लिए कामना कर रहा है, मैं उन परिवारों के त्याग को भी नमन करता हूं, जिनके बेटे बेटियां आज सरहद पर है."


 

प्रधानमंत्री मोदी ने खादी का जिक्र करते हुए कहा कि खादी हमारी सादगी की पहचान रही है, लेकिन हमारी खादी आज इको फ्रेंडली फैब्रिक के रूप में जानी जा रही है ये बॉडी फ्रेंडली फैब्रिक भी है. 

प्रधानमंत्री ने मेक्सिको के शहर ओहाका का जिक्र किया और कहा कि वहां की खादी ओहाका खादी के नाम से प्रसिद्ध है. पीएम ने कहा कि ओहाका का एक युवक मार्क ब्राउन गांधी जी से इतना प्रभावित हुआ कि वे मेक्सिको में जाकर खादी का काम शुरू करने लगे.  


 

प्रधानमंत्री ने लौहपुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल को याद करते हुए उनके सेंस ऑफ ह्युमर को याद किया. पीएम ने कहा कि जरा उस लौह पुरुष की छवि  की कल्पना कीजिए जो राजे-रजवाड़ों से बात कर रहे थे और जन आंदोलन का प्रबंधन कर रहे थे. इन सब के बीच उनका सेंस ऑफ ह्युमर पूरे रंग में होता था. पीएम ने कहा कि हालात चाहे कितनों ही खराब क्यों न हो, लेकिन व्यक्ति को अपना सेंस ऑफ ह्युमर जिंदा रखना चाहिए. 

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमारा देश एक है, लेकिन ऐसी ताकतें भी हैं जो हमारे मन में संदेह का बीज बोने की कोशिश करती रही है. देश ने ऐसे लोगों को मुंहतोड़ जवाब दिया है. प्रधानमंत्री मोदी ने देश की एकता का प्रचार प्रसार करने वाली वेबसाइट ekbharat gov वेबसाइट देखने को कहा. 

 

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने