सुआ ,गौरा-गौरी ,राऊत नाचा हमारी पहचान, इसे सहेजना है हमारा धर्म :रँजना साहू

 



धमतरी।इन दिनों गांव व शहर में सुआ नृत्य करते हुए बच्चे व महिलाओं की टोली नजर आने लगी है ।अपने ग्रामीण दौरे में विधायक रँजना साहू भी अपनी परंपरा व संस्कृति हमर छत्तीसगढ़ की पहचान सुआ राउत नाचा गौरी गौरा जैसे पारंपरिक विरासत उसे जुड़ने के लिए अपने को रोक नहीं पाई।बच्चों के साथ सुआ नृत्य में संयोजित करते हुए ग्रामीण महिलाओं से आग्रह पूर्वक कहा कि यह सारे नृत्य पर्व दीपावली में समाहित है जो हमारी संस्कृति की पहचान है। 



अपने धर्म व संस्कृति के प्रति समर्पण तथा आने वाली पीढ़ी को इन से अवगत कराने का एक खुशहाल माध्यम है। प्रभु राम के अयोध्या वापसी पर पूरे अयोध्यावासी भी अपनी परंपरा और संस्कृति से जुड़े हुए सारे लोग कलाओं की प्रस्तुति कर खुशी का इजहार किया था, आज के समय भी जब अयोध्या में प्रभु राम के भव्य मंदिर का निर्माण का प्रारंभ भूमि पूजन के साथ हो चुका है ऐसे में यहां खुशी आस्था श्रद्धा निष्ठा के साथ अपने धर्म के प्रति समर्पण का भाव जागृत करने के लिए अवसर प्रदान करती है। 


सारे सनातन धर्म को मानने वाले लोग हमारे आराध्य भगवान राम व कृष्ण के जीवन चरित्र को रामायण व गीता के माध्यम से प्रेरणा स्रोत माने तो राम राज्य की स्थापना होकर सर्वत्र सुख शांति और समृद्धि का वातावरण निर्मित हो जाएगा विधायक श्रीमती साहू ने इस आराध्य पर्व में कोरोनावायरस से मुक्ति हेतु ही भगवान राम से प्रार्थना की है।



0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने