हाथियों का दल फिर पहुंचा तुमाबुज़ुर्ग,गौशाला में एक गाय की मौत, एक गंभीर

 


रात में लाइट बंद होने के बाद हाथी पहुंचने से ग्रामीणों में दहशत 



धमतरी।चंदा हाथियों का दल एक माह बाद फिर से तुमाबुजुर्ग, बरकछार क्षेत्र में पहुंच गया है।अंगारमोती गोधाम में बीती रात पहुंचने पर भगदड़ से एक गाय की मौत हो गई, वहीं एक गाय गंभीर रूप से घायल है ।पास के फार्म हाउस में भी जमकर तबाही मचाई है।जिससे आसपास के ग्रामीणों में दहशत का आलम बना हुआ है।

 धमतरी के आसपास सोरम,भटगांव ,खिड़कीटोला, विश्रामपुर, गंगरेल में दहशत फैलाने के बाद हाथियों का दल वापस बालोद धमतरी जिले के सीमा क्षेत्र की ओर पहुंच गया है। तुमाबुजुर्ग के आसपास हाथियों के दल को देखा गया है। सोमवार की रात  तुमाबुजुर्ग के अंगारमोती गोधाम में 6 हाथी पहुंच गए। जिससे मवेशियों में हड़कंप मच गया।भगदड़ में एक गाय की मौत हो गई।


 गोदाम के कर्मचारी सुमन यादव ने बताया कि रात लगभग 12:30 बजे बिना आवाज के 6 हाथी गौशाला में घुस गए। जैसे ही हाथी घुसे मवेशियों में हड़कंप मच गया।गायों की आवाज से जब वह उठकर देखा तो कई गाय इधर उधर अपनी जान बचाने भाग रही थी। इसमें एक गाय की मौत हो गई और एक गंभीर रूप से घायल है।लगभग 1 घंटे तक रहने के बाद हाथी वापस बाहर निकल गए,बाकी हाथी बाहर में ही थे। गौशाला के बाजू में ही अशोक वाटिका में भी जमकर तबाही मचाई है। वहां के जनरेटर, टंकी और फसल को नुकसान पहुंचाया है, जिसमें मुंनगा, भिंडी, फूल गोभी आदि लगा हुआ है। सूचना मिलने पर रात में ही वन विभाग की टीम पहुंच गई थी ।तब तक हाथियों का दल आगे निकल गया। रात में लाइट बंद होने से डर बना रहता है ,जब तक इस क्षेत्र में हाथी रहेंगे लोग चैन की नींद नहीं सो पाएंगे।

 ज्ञात हो कि पिछले माह  2 फरवरी को हाथियों का दल तुमाबुजुर्ग क्षेत्र में आया था और गौशाला में घुसने से एक गाय की और मौत हो चुकी थी।अभी यह स्पष्ट नहीं है कि हाथियों का दल किस तरफ रुख करेगा। दिन में बरकछार क्षेत्र में पहुंच जाते हैं। कुछ दिनों पहले धमतरी के आसपास पहुंचा हुआ था जिसमें गंगरेल के गार्डन में नुकसान हुआ था।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने