पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह का आरोप CM बघेल को नही प्रदेश के हालात से सरोकार



 बोले गृह मंत्री अब तक नही पहुँचे बीजापुर


वतन जायसवाल

रायपुर। बीजापुर में हुए नक्सल हमले के बाद पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह भी अब हमलावर हो गये है। मुख्यमंत्री भुपेश बघेल पर गैरजवाबदारी का आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी प्राथमिकता असम हो गई है। छत्तीसगढ़ की समस्याओं से कोई सरोकार नही है।भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रमन सिंह ने प्रेस कांफ्रेंस में बघेल सरकार कई आरोप लगाएं है। श्री सिंह ने कहा कि रोम जल रहा था और नीरो बंसी बजा रहा है।


 बीजापुर की घटना को पीड़ादायक बताते हुए डॉ. सिंह ने कहा कि आज इस परिस्थिति में भी सरकार का कोई भी जवाबदार व्यक्ति छत्तीसगढ़ में उपलब्ध नहीं है। मुख्यमंत्री की प्राथमिकता असम चुनाव हो गई है, लेकिन शहीद हुए जवानों के परिजनों को सांत्वना देने के दो शब्द नहीं है। किसी राज्य का मुख्यमंत्री इतना असंवेदनशील नहीं हो सकता।


पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा शहीद जवानों की बॉडी रिकवर नहीं हुई है, और मुख्यमंत्री असम चुनाव में डटे हुए हैं। बस्तर को लेकर यह बार-बार सवाल उठाते थे कि कोई आईजी पदस्थ नहीं है, और आज बस्तर में डीआईजी नक्सल संभाल रहा है। ये ग़ैर जवाबदार सरकार हैं। गृहमंत्री को अब तक बस्तर पहुंच जाना चाहिये था।

 रमन सिंह ने कहा कि छत्तीसगढ़ में कोरोना से हालात बिगड़ गए है। कल आँकड़ा छह हज़ार को छू गया। इस स्थिति का जवाबदार कौन है? स्वास्थ्य मंत्री कहते हैं कि छत्तीसगढ़ की स्थिति ख़राब होती जा रही है, आईसीयू में जगह नहीं है। मैं खुद कल एम्स से लेकर सरकारी अस्पतालों, निजी आस्पतालों में फ़ोन लगाता रहा, लेकिन एक बेड नहीं मिला। मौत के आंकड़ों में हेरफेर किया जा रहा है। जितनी मौतें हो रही हैं, उससे कम आँकड़े जारी किए जा रहे हैं। यह अजीब स्थिति है। आज वेंटिलेटर उपलब्ध नहीं है। सेस के रूप में कोविड के नाम से चार सौ करोड़ रुपए वसूले गए, लेकिन आज तक वेंटिलेटर का अरेंजमेंट नहीं कर सके। राजनीतिक मुद्दा बनाकर वैक्सिनेशन को सरकार टालती रही। गुजरात में क्रिकेट मैच में स्टेडियम ख़ाली रहा, लेकिन रायपुर में हुए मैच में चालीस चालीस हजार लोगों को श्मशान घाट में बिठाया गया।

0/Post a Comment/Comments

नया पेज पुराने